Spread the love

आष्टा। इन दिनो वनमाफियाओ द्वारा वनो की बेशकीमती इमारती लकड़ी सागौन को इछावर दौलतपुर से शाजापुर की ओर नए नए हथकंडे अपनाकर तश्करी कर ले जाने का प्रयास कर रहे है । इस बार वन माफीयाओ ने ईद से एक दिन पहले की रात को यह समझ कर सागौन से भरे वाहन को निकालने का प्रयास किया कि ईद के चलते वनकर्मी छुट्टी पर होगे ।

यही विचार वनमाफीयाओ को महंगा पड़ गया और वन अमले ने वाहन सहित सागौन से भरे वाहन को आरोपीयो सहित पक़ड़ने मे वनविभाग को सफलता मिलीं। डीएफओ एम एस डावर के निर्देश पर एसडीओ राजेश शर्मा के मार्गदर्षन मे रेंजर राजेश चौहान द्वारा क्षेत्र के हर एक मार्ग पर वनविभाग की टीम बैठाकर गश्त कराई जा रही है।

वही मुखबिर भी सक्रियता के साथ कार्य करते हुए वन विभाग का सहयोग कर रहे है। यही कारण है कि लगातार वनविभाग को लगातार सफलता मिल रही है। रेंजर राजेश चौहान ने बताया कि बीती रात लगभग 11 बजे कोठरी के पास कचनारिया जोड़ से मोलूखेड़ी गांव से सागौन से भरी हुई वाहन के जाने की सूचना मिली। वनरक्षक डिप्टी रेंजर शेलेष कुमार सिंह ,सुरेश कुमार शर्मा,वनरक्षक दीपेश राठौर,

वनकर्मी घनश्याम पांडे, महेश परमार,कैलाश वर्मा आदि ने घेराबंदी कर मारूती 800 कार सफेद रंग की वाहन क्रमांक एमपी 04 वी 6393 को घेराबंदी कर रोका। और उसके अंदर सागौन रखी हुई थी। जिसमे कुल नग 17 सागौन के थे। जिसका 04़09 घनमीटर वाहन एवं लकड़ी की कीमत 80 हजार रूपये आंकी गई। आरोपी बादशाह पिता नोशे खां निवासी दौलतपुर के विरूद्ध अपराध क्रमांक 42130/11 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया।

error: Content is protected !!