Spread the love

आष्टा । मध्यप्रदेश शासकीय स्वशायी चिकित्सक महासंघ के आव्हान पर आज से मध्य प्रदेश के सभी शासकीय चिकित्सालयो में पदस्थ डॉक्टर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गये। आज प्रथम दिन से ही हड़ताल का असर देखा गया।

डॉक्टर नही मिलने पर मरीज को वापस ले जाते हुए

आज प्रातः जब इस प्रतिनिधि ने अस्पताल का भ्रमण किया तब पाया कि जिन मरीजों का पहले से इलाज चल रहा था,उन्हें जिस डॉक्टर ने देखा था वो आज नजर नही आये,मरीज परेशान होते देखे गये । सभी चिकित्सक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर होने के कारण डॉक्टरों के कक्ष खुले जरूर पर खाली नजर आये ।

हड़ताल के कारण कक्ष ओर कुर्सी दोनों खाली

सिविल अस्पताल आष्टा के बीएमओ डॉ सुरेश माहोर ने बताया की आज हड़ताल को देखते हुए वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में आयुष चिकित्सको की ड्यूटी लगाई गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश शासकीय स्वशायी चिकित्सक महासंघ ने आज से अपनी मांगों को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल शुरू की है। सभी शासकीय चिकित्सालय में पदस्थ डॉक्टरों के हड़ताल पर जाने के कारण स्वास्थ सेवाओ पर बुरा असर देखने को मिल रहा है ।

मरीज आये,ओपीडी पर्ची भी बनवाई पर नही मिले डॉक्टर

वहीं चिकित्सकों की हड़ताल को देखते हुए मध्य प्रदेश सरकार के चिकित्सा विभाग ने इन चिकित्सकों के स्थान पर आयुष चिकित्सकों को ड्यूटी पर लगाने का निर्णय लिया है । आज सिविल अस्पताल में आयुष चिकित्सक शाइनी अंजुम ड्यूटी पर तैनात थी,आये मरीजों ने भी जब कोई डॉक्टर नही मिला तो उन्हें अपनी बीमारी बता कर ईलाज शुरू किया।

आये मरीजों को आयुष चिकित्सक शाइनी अंजुम ने देखा


हड़ताल पर गये डॉक्टरों ने आज से प्रति दिन वादा स्मरण दिवस भी मनाने का निर्णय लिया है,उनका कहना है कि सरकार ने पूर्व में जो वादे किए थे जिन्हें अभी तक नहीं निभाया गया उन वादों को याद दिला कर मांग की जाएगी कि किए गए सभी वादों को एवं मांगों को पूर्ण किया जाए ।

चलो दवा तो मिल गई…
error: Content is protected !!