Spread the love

आष्टा । आष्टा में एक बार फिर फर्जी नोटरी का मामला प्रशासनिक अधिकारी के संज्ञान में आया है। यह मामला कोई पहला नही है। इसके पूर्व भी आष्टा में फर्जी नोटरी की गूंज आष्टा में गूंज चुकी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आज कोई एक व्यक्ति जो कोठरी का बताया गया है,उसने किसी प्रमाण पत्र के लिये आष्टा एसडीएम श्री आनन्दसिह राजावत के समक्ष पेश हुआ ।

उसने प्रमाण पत्र बनाने के लिये जो दस्तावेज पेश किये उसमे एक नोटरी शपथ पत्र भी लगाया था। अनुभवी ओर पारखी नजरो ने उसे प्रथम दृष्टि में ही जान लिया कि ये फर्जी हो सकता है। पूछताछ के बाद मामले की गम्भीरता को देखते हुए। एसडीएम आनन्दसिह राजावत ने इस फर्जी नोटरी शपथ पत्र की पूरी जांच एक चार सदस्यीय जांच दल का गठन किया है,दल को निर्देश दिये है कि वो इस पूरे मामले की जांच कर 3 दिन में रिपोर्ट पेश करे।

खबर है कि आज उक्त जांच दल ने नोटरी करने वाले के यह से कुछ दस्तावेजो कि जांच कर जप्त भी किये है। मामला गम्भीर ही नही अति गम्भीर नजर आ रहा है,इस पूरे मामले की तह में जाने की आवश्यकता है.! गठित जांच दल में तहसीलदार नीलम परसेंडिया, नायब तहसीलदार अतुल शर्मा,पटवारी एवं नाजिर को शामिल किया है

आनन्दसिह राजावत एसडीएम आष्टा

इनका कहना है..
आज एक व्यक्ति ने मेरे समक्ष प्रमाण पत्र बनाने हेतु आवेदन के साथ नोटरी शपथ पत्र आदि दस्तावेज पेश किये थे,जब देखा तब प्रथम दृष्टया नोटरी शपथ पत्र फर्जी लगा। इसकी जांच हेतु तहसीलदार के नेतृत्व में चार सदस्यो का एक जांच दल गठित किया है,3 दिन में रिपोर्ट पेश करने को कहा है- आनन्दसिह राजावत एसडीएम आष्टा।

error: Content is protected !!