Spread the love

आष्टा। आज से नही इसके पहले कई वर्षों से सुनते आ रहे है,प्रशासन ने इतनी इतनी कालोनियों की जांच की,जांच में इतनी कालोनियां अवैध पाई गई,जल्द ही इन अवैध कालोनाइजरों पर एफआईआर दर्ज होगी,उन्हें जेल होगी,जिन गरीबो ने अपनी छत,अपना मकान का सपना देख लुभावने पम्पलेट देख कालोनियों में प्लाट लिये वे अब ठगा महसूस कर रहे है,कालोनियों में प्लाट देते वक्त वादा किया था कालोनी वैध होगी,प्रक्रिया चल रही है,कालोनी में चौड़े रोड होंगे,पार्क होगा,पानी,बिजली,ड्रेनेज,सहित सभी मूल भूत सुविधा होगी आदि आदि..

फाइल चित्र

लुभावनी बातों,दिखाये सपनो में फस कर गरीबो ने प्लाट ले लिये अब मकान कैसे बनाये क्योकि बैंक ने हाऊस लोन देने से इंकार कर दिया बताया कालोनी अवैध है। जिसने जैसे तैसे मकान बना लिया पर वहां ना रोड है,ना बिजली है,ना पानी है,ना स्ट्रीट लाइट है,नगर पालिका सुविधा नही दे रही,कॉलोनाइजर मजे लूट कर अब हाथ ऊंचे कर चल दिये ये हाल है अपना घर,अपनी छत का सपना देख कर कालोनियों में प्लाट लेने वालों के। मरता क्या नही करता शिकायत की,जांच हुई,कालोनी अवैध पाई,प्रकरण भी बने पर आज तक ना ही पीड़ितों को न्याय रूपी सुविधा मिली और ना ही इस धंधे के लुटेरों पर कोई कार्यवाही हुई।

अभी तो पुलिस भी करेगी परीक्षण.!

अब फिर बन्द बोतल से अवैध कालोनाइजरों पर कार्यवाही का जिन्न बहार आया तो है देखना है ये जिन्न सलाखों के पीछे पहुचता है,पीड़ितों को न्याय मिलता है या बहार आया जिन्न फिर पूजा पाठ,अगरबती लोभान की धूनी खा कर वापस बोतल में चला जाता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व में आष्टा के तहसीलदार ने अवैध कालोनियों की जांच करवाई थी,करीब 4 से 5 को छोड़ सभी अवैध पाई गई थी। उन पर कार्यवाही की तैयारी शुरू तो हुई थी पर फिर वो गर्मी बरसात में ठंडे बस्ते में चली गई। ऐसी करीब 32 कालोनी है जो अवैध है। खबर है अब नवागत कलेक्टर की ओर से अवैध कालोनाइजरों के खिलाफ एफआईआर कराने की हरी झंडी मिल गई है।

खुशी से खरीदा था प्लाट-अब हो रहे है परेशान फाइल चित्र

आष्टा एसडीएम श्री आनन्दसिंह राजावत ने आष्टा तहसीलदार श्री शैलेन्द्र द्विवेदी को ऐसी सभी करीब 32 कालोनी जो अवैध पाई गई है,उसके कालोनाइजरों पर एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दे दिये है। तहसील से आष्टा थाने को सूची बना कर सूची के सभी अवैध कालोनाइजरों पर एफआईआर दर्ज करने की चिट्ठी भी भेज दी गई है। अब देखना है इन इस मामले के लुटेरों पर कब तक प्रकरण दर्ज होता है.?

इनका कहना है-मेने तहसीलदार को सभी अवैध कालोनाइजरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की कार्यवाही के निर्देश दे दिये है,करीब 30 से अधिक कालोनियां है जो जांच में अवैध पाई गई है-आनन्दसिंह राजावत एसडीएम आष्टा

You missed

error: Content is protected !!