Spread the love

आष्टा । आष्टा नगर पालिका द्वारा प्रतिवर्ष पार्वती नदी पर बहते हुए पानी को रोकने के लिए शटर लगाई जाती है। इस वर्ष भी निश्चित समय सीमा पर नगर पालिका द्वारा पार्वती नदी से बहते पानी को रोकने के लिए शटर लगाने का काम शुरू किया है। जब नगर पालिका ने उक्त शटर पार्वती पुल पर कसने का कार्य शुरू किया तब ज्ञात हुआ कि 12 लोहे की शटर कम है जो चोरी हो चुकी है । यही कारण है कि अभी आधी नदी में उक्त शटर लग पाई है तथा शेष खुले भाग से पानी बह रहा है।

फाइल चित्र

शटर चोरी होने की जानकारी लगने पर मुख्य नगरपालिका अधिकारी नंदकिशोर पारसानिया एवं इंजीनियर धुर्वे ने इसकी जानकारी पार्वती थाना प्रभारी विक्रम आदर्श को दी है। नगर पालिका ने इसकी लिखित शिकायत भी की है। खबर है कि पार्वती थाना प्रभारी ने उक्त जानकारी लगने के बाद मौके पर पहुंचे तथा शटर खोलने और लगाने वालों से भी चर्चा कर उनके बयान लिए गए हैं । सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त चोरी गई शाटरो की कीमत लगभग ₹3 लाख बताई जाती है। नगर पालिका द्वारा हर वर्ष एक निश्चित दिनाक के बाद लगी शटर खोली जाती है तथा जैन समाज की पांडुपशिला के पास में इन खोली गई शटर को खुले में रख दिया जाता है।

यह प्रक्रिया परसों से चली आ रही है। लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है कि उक्त शटर चोरी हो गई। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आष्टा थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले ग्राम लसुलड़िया से भी पार्वती नदी पर बने स्टॉप डेम की शटर चोरी होने की खबरें प्राप्त हो रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पार्वती नदी जोकि सिद्धिकगंज क्षेत्र से होती हुई आष्टा आती है। इसके पूर्व ग्राम लसुलड़िया में नदी पर स्टॉप बना है जहां पर गर्मी के लिये बारिश का बहता पानी रोका जाता है ताकि वह गर्मी में उपयोग आ सके।

स्टॉप डेम से शटर चोरी होने की खबरें तो आ रही है। लेकिन अभी तक सिंचाई विभाग के अंतर्गत उक्त स्टॉप डेम आता है लेकिन सिंचाई विभाग की ओर से अभी तक आष्टा थाना को चोरी हुई शटर की कोई जानकारी नहीं दी गई है। उक्त स्थल पर कितनी शटर लगाई जाती है,कितनी चोरी हुई है इसकी जानकारी का इंतजार है।

जितनी शटर बची उन्हें नपा ने बहते पानी रोकने लगवाई

You missed

error: Content is protected !!