Spread the love
सौ.आष्टा हैडलाइन

सीहोर। सीहोर जिले की नसरूल्लागंज पुलिस ने,पुलिस अधीक्षक सीहोर से प्राप्त दिशा निर्देशो पर क्षेत्र मे फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने वाले एव गरीब लोगो को निशाना बनाकर फर्जी तरीके से बेचने वाले गिरोह के मुख्य सरगना बिहार निवासी आरोपी नवीन को फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने के उपकरण, दर्जनो फर्जी जन्म प्रमाण पत्र सहित बिहार से गिरफ्तार करने मे बडी सफतला हासिल की है।
दिनांक 29/07/2022 को फरियादी भुजराम पर्ते मूल निवासी इटावा खुर्द पोस्ट पिपलानी की रिपोर्ट पर फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने का मामला सामने आया था। तब पुलिस ने आरोपीगणो के विरूध्द धारा 420, 467,468 भादवि के तहत मामला दर्ज कर अनुसंधान मे लिया।


जिला पुलिस अधीक्षक श्री मयंक अवस्थी के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गितेश गर्ग व एसडीओपी आकाश अमलकर के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी कंचन सिंह ठाकुर के नेतृत्व में एक विशेष टीम गठित की गई थी। पुलिस टीम द्वारा अनुसंधान मे आरोपी दीपक मीणा से पुछताछ एव तकनिकी सहायता से यह बात सामने आई की पर इस फर्जीवाडे मे बालाघाट निवासी आरोपी शंशाक गिरी भी संलिप्त है। पुलिस ने फर्जीवाडे के अन्य आरोपी शंशाक गिरी को बालाघाट से गिरफ्तार किया । आरोपी शंशाक गिरी ने पुलिस को पुछताछ मे बताया थी कि उसे फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने की लिन्क वाट्सएप्प के माध्यम से उत्तर प्रदेश के रहने वाले फरदीन पिता इमरान व फरदीन पिता शहीद से मिली थी।

ये लिंक मिलते ही नसरूल्लागंज पुलिस की टीम ने आरोपीगणो की तलाश एव फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने वाले गिरोह के आरोपियो फरदीन पिता इमरान व फरदीन पिता शहीद निवासी मेरठ को उत्तरप्रदेश से गिरफ्तार किया। दोनो आरोपियो ने पुलिस को बताया की उन्हे यह लिंक उनके वाट्सएप्प मेसेज मे आना व उक्त मेसेज में आए मोबाईल नंबर से जरिए आनलाईन कॉलिंग कर उक्त मामले का मास्टरमाईंड नवीन कुमार निवासी बिहार से संपर्क कर लिंक को ओपन कर 100 रुपये में रिचार्ज कर जन्मप्रमाण पत्र बनाना बताया। इस प्रकार दोनों आरोपी फरदीन पिता इमरान व फरदीन पिता शहीद निवासी उत्तरप्रदेश 100-200 रुपयों में फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाना व उसका कुछ प्रतिशत आरोपी नवीन कुमार को जरिए बार कोड के यूपीआई के माध्यम से उसके अकाउण्ट में पैसे डालना बताया ।
पुलिस ने इस फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने वाले गिरोह के मुख्य सरगना मास्टरमाईड आरोपी नवीन कुमार सिहं पिता संजीव कुमार सिहं उम्र 19 साल निवासी भिट्टी बाजार जिला सारण को बिहार से तकनिकी सहायता एव अथक प्रयासो से गिरफ्तार किया । जन्म प्रमाण पत्र बनाने वाला गिरोह का मुख्य सरगना मासुम सा दिखने वाला 19 साल का लडका जिसने कम समय मे अमीर बनने एव अपने महगे शौक पुरे करने के लालच मे इस गोरखधन्धे को शूरू किया था । गिरोह के मुख्य आरोपी से पुछताछ की जा रही है जिससे अन्य फर्जीवाडे का खुलासा हो सके।


“आरोपी से जप्त किया गया मश्रुका का विवरण”
पुलिस ने आरोपीगणों से LED-1, मोबाईल – 05, लेपटॉप -05, प्रिन्टर -03 व 48 फर्जी जन्म प्रमाण पत्र जप्त किए गए हैं ।

“तरीका-ए-वारदात”

उक्त घटना का मास्टरमाईंड मासूम सा दिखने वाला आऱोपी नवीन कुमार सिंह पिता सजीव कुमार उम्र 19 साल निवासी भिट्टी बाजार जिला सारण बिहार प्रदेश ने पूछताछ में बताया कि उसके पिताजी आनलाईन की दुकान पर काम करते थे उसे देखकर उसे बच्चपन से ही से साईबर संबंधित चीजों में रुचि थी व घर के हालात सही ना होने व कम समय में ज्यादा पैसा कमाने की लालच में उसने यूट्यूब के जरिये साफ्टवेयर इंजिनियरिंग का अभ्यास किया हैं। आज से करीब 6 माह पहले मुझे जानकारी मिली थी कि कुछ लोग आन लाईन का काम करने वाले जन्म प्रमाण पत्र बनाते हैं ।

तब मैने अपने मो.पर गूगल से जन्म प्रमाण पत्र बनाने के सम्बंध में जानकारी प्राप्त किया काफी प्रयास कर गूगल से सर्च करने पर जन्म प्रमाण पत्र बनाने कि विधि प्राप्त किया मैने अपना स्वंय का वेबसाईट CRSOR.GOV.ORG नाम से तैयार किया बाद शासकीय अस्प.की वेबसाईट CRSOR.GI.GOV.IN से किसी भी राज्य जिला के शासकीय अस्प.से जारी जन्म प्रमाण पत्र नेट द्वारा प्राप्त कर लेता था जिस प्रमाण पत्र पर अस्प.की सील व हस्ता.रहते थे । उस जन्म प्रमाण पत्र को मेरे द्वारा लेपटॉप पर डाउनलोड कर लेता था । उस प्रमाण पत्र पर लगी सील व हस्ताक्षर अस्प.का नाम पता कट पेस्ट कर अपने स्वंय द्वारा बनाये गये वेबसाईड पर लोड कर लेता था ।

बाद जन्म प्रमाण पत्र बनवाने वाले का नाम जन्मतिथि तथा उसके मातापिता का आधार नं.प्राप्त कर मेरे द्वारा बनाये गये लिंक पर जन्म प्रमाण पत्र में जन्म प्रमाण पत्र चाहने वाले का डाटा एडिट कर अस्प.की सील व हस्ता कलर कोडेड पेस्ट कर जन्म प्रमाण पत्र पेस्ट कर देता था जिस जन्म प्रमाण पर मेरे द्वारा तैयार बार कोड भी पेस्ट कर देता था जिस के बारकोड को सर्च करने पर जन्म प्रमाण पत्र दर्शित हो जाता हैं। इस प्रकार मेरे द्वारा तैयार कि गई लिंक CRSOR.GOV.ORG/WEB/INDEX/OWTH/LOGIN
सर्च करने पर किसी भी राज्य के जिले या सिविल अस्पताल कि सूची दर्शित होती हैं।

सुश्री कंचनसिंह ठाकुर थाना प्रभारी नसरुल्लागंज

बाद जिस किसी भी अस्पताल या सिविल अस्पताल का जन्म प्रमाण पत्र तैयार करना होता हैं तब उस अस्पताल का नाम सर्च कर जन्म प्रमाण पत्र अपनी वेबसाईड पर लोडकर जन्म प्रमाण पत्र चहाने वाले का डाटा आडिट कर सील व हस्ताक्षर पेस्ट कर लगा कर फर्जी जन्म प्रमाण पत्र तैयार करता था बाद मेरे द्वारा तैयार कि गई लिंक को आनलाईन चलाने वाले लोगो को जरिये व्हाटअप ग्रुप में शेयर किया कुछ माह पहले फरदीन निवासी मेरठ उत्तर प्रदेश व शशांक गिरी निवासी बालाघाट म.प्र.व अन्य लोगो को भी मेरे द्वारा फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने वाली लिंक जरिये व्हाट्सअप दी थी जिनके द्वारा भी कई फर्जी जन्म प्रमाण पत्र जारी किये गये इस प्रकार मेरे द्वारा फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने कि लिंग द्वारा लगभग 53000 फर्जी जन्म प्रमाण पत्र जारी किये गये हैं।

“इस मामले के ये है आरोपीगण”

1 नवीन कुमार सिंह पिता सजीव कुमार उम्र 19 साल निवासी भिट्टी बाजार जिला सारण बिहार प्रदेश
2 दीपक मीणा पिता धूमसिंह उम्र 26 साल निवासी टीकामोङ थाना नसगंज
3.शशांक गिरी पिता स्व राजकुमार उम्र 30 साल निवासी सम्राटनगर , वारासिओनी जिला बालाघाट,

  1. फरदीन पिता इमरान उम्र 17 साल निवासी कुशालनगर , निसाङी गेट जिला मेरठ उ.प्र.
    5.फरदीन पिता शाहिद उम्र 17 साल निवासी पांचलीखुर्द, साठबट्टा रोड, समर गार्डन , निसाङी गेट जिला मेरठ उ.प्र.
    आरोपियो द्वारा तैयार की गई फर्जी लिन्क को बन्द कराने की प्रकिया की जा रही है जिससे उस लिन्क के माध्यम से फर्जी जन्म प्रमाण पत्र तैयार न किये जा सके।

“सराहनीय योगदान”

थाना प्रभारी नसरुल्लागंज निरीक्षक सुश्री कंचन सिंह ठाकुर ,उनि श्याम कुमार सूर्यवंशी, आर. 818 दीपक जाटव , आऱ.648 पुष्पेन्द्र, आर. 581 योगेश कटारे, आर.371 विपिन जाट, म.आर. 876 वैशाली तिवारी व साईबर सेल सीहोर –प्रआर सुशील सालवे का सराहनीय काम रहा है।
पुलिस अधीक्षक सीहोर द्वारा इस टीम को नगद राशि से पुरस्कृत करने की घोषणा की गई है।

                                                

You missed

error: Content is protected !!